chessbase india logo

रेकेवेक ओपन:रापोर्ट से जीते अधिबन ,खिताब के करीब

14/03/2018 -

रेकेवेक ओपन मे भारत के ग्रांड मास्टर भास्करन अधिबन नें हंगरी के ग्रांड मास्टर और टॉप सीड रिचर्ड रापोर्ट को मात्र 27 चालों में पराजित करते हुए लगातार ना सिर्फ अपनी अपनी 5 वी जीत दर्ज की बल्कि अब खिताब पर अपना कब्जा जमाने के लिए अंतिम राउंड में सिर्फ उन्हे ड्रॉ की दरकार है । निर्णायक राउंड के ठीक पहले उन्होने इस जीत के साथ ही 7 अंको के साथ एकल बढ़त कायम कर ली है । अंतिम राउंड में अधिबन अब टर्की के यिलमज मुस्तफा से मुक़ाबला खेलेंगे । अपना दूसरा महत्वपूर्ण ग्रांड मास्टर नार्म हासिल करने के बाद नन्हें सम्राट निहाल आज शांतिपूर्ण खेलते नजर आए  आज भारत के निहाल सरीन और वैभव सूरी नें आपस में मुक़ाबला खेला और परिणाम बराबरी पर रहा । 9वे राउंड में 6 अंको पर खेल रहे एस किदाम्बी ,वैभव और निहाल की जीत भारत को अच्छी खबर दे सकती है । 

रेकेवेक- निहाल को ग्रांडमास्टर नार्म, अधिबन बढ़त पर

13/03/2018 -

बॉबी फिशर की याद में आयोजित होने वाले प्रसिद्ध ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट रेकेवेक ओपन में भारत के लिए अच्छी खबर आई है , वर्षीय नन्हें सम्राट इंटरनेशनल मास्टर निहाल सरीन नें अपना दूसरा ग्रांड मास्टर नार्म हासिल कर लिया है । सात राउंड के बाद 2767 रेटिंग के असाधारण प्रदर्शन नें उन्हे यह उपलब्धि दिलाई । पूरी प्रतियोगिता मे अद्भुत खेल का प्रदर्शन करते हुए निहाल नें अपनी रेटिंग को 2550 के पार पहुंचा दिया है और उनकी लगातार बेहतर होती खेल मे पकड़ उन्हे भविस्य का बड़ा खिलाड़ी बता रही है । खैर अच्छी खबर भास्करन अधिबन नें भी दी लगातार चार जीत के सहारे अब वह इस स्थिति में आ चुके है की एक बड़ी जीत उन्हे खिताब दिला सकती है । आज जब वह टॉप सीड रिचर्ड रापोर्ट से मुक़ाबला खेलेंगे तो देखना होगा कौन बाजी मारता है । 

अलविदा दोस्त - शैलेश तुम ग्रांड मास्टर ही थे यार !!

11/03/2018 -

तुम ग्रांड मास्टर ही थे शैलेश ! जीवन जीने की कला के ग्रांड मास्टर, अपने जीवन में कैसे अपनी क्षमताओं का सबसे बेहतर उपयोग करना, यह कोई तुम से सीखे ! तुमने अपने जीवन में जिन कठनाइयों का सामना किया और उसके बाद भी सम्मान हासिल किया ,तुमने जो मुकाम हासिल किया वह किसी भी सर्वश्रेष्ठ मानवीय उपलब्धि से कम नहीं है । तुम्हारा जाना मुझ जैसे ना जैसे कितने ऐसे लोगो के लिया एक बड़ा नुकसान है जो रोज अपने 100 प्रतिशत शारीरिक क्षमताओं के बाद भी साधारण सी उपलब्धि पर भी इतरा उठते है और छोटी सी मुश्किल से परेशान हो जाते है , तुम हमेशा प्रेरणा ना सिर्फ खुद महसूस करते थे बल्कि हमें भी प्रेरित करते है । मुझे याद है मेरे पहले हिन्दी लेख के बाद तुम्हारा संदेश जब तुमने मुझे हिन्दी में लेख लिखने के लिए खुशी व्यक्त की थी और उस एक संदेश नें मुझे हमेशा और लिखने के लिए प्रेरित किया ! ईश्वर तुम्हें अबकी बार एक सम्पूर्ण जीवन प्रदान करे ताकि मानवता को तुमसे एक नयी दिशा मिले ! बहुत याद आओगे ! अलविदा दोस्त । 

रेकेवेक ओपन - निहाल नें फिर किया कमाल

09/03/2018 -

रेकेवेक ओपन में चौंथे राउंड में भारत के नन्हें सम्राट निहाल सरीन नें एक और शानदार परिणाम देते हुए पूर्व विश्व जूनियर चैम्पियन एजिप्त के ग्रांड मास्टर एडले अहमद को पराजित कर दिया और इसके साथ ही वह 3.5 अंको के साथ भारतीय खिलाड़ियों में सबसे आगे बने हुए हुए है । 3 अंक पर भारत के तीन खिलाड़ी है वैभव ,अधिबन और फेनिल ,सयुंक्त बढ़त पर चल रहे वैभव सूरी को हार का सामना करना पड़ा तो अधिबन नें दो ड्रॉ के बाद अपनी पहली जीत दर्ज की । एक और जीत दर्ज करते हुए फेनिल शाह भी अपने इंटरनेशनल मास्टर टाइटल से सिर्फ 6 अंको की दूरी पर जा पहुंचे है । वही जहां किदाम्बी नें अपना तीसरा ड्रॉ खेला तो प्रग्गानंधा को अपनी पहली हार का सामना करना पड़ा । पड़े यह लेख 

रेकेवेक ओपन - निहाल - प्रग्गा की शानदार शुरुआत

08/03/2018 -

रेकेवेक , आईलैंड । पूर्व विश्व चैम्पियन अमेरिकन ग्रांड मास्टर बॉबी फिशर की याद में आयोजित होने वाले प्रसिद्ध ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट रेकेवेक ओपन में 34 देशो के 248 खिलाड़ी भाग ले रहे है जिसमें  भारतीय खिलाड़ियों  की संख्या 11 है । भारतीय चुनौती का प्रतिनिधित्व ग्रांड मास्टर अधिबन भास्करन कर रहे है जिन्हे प्रतियोगिता में चौंथी वरीयता दे गयी है । उनके अलावा ग्रांड मास्टर वैभव सूरी और एस किदाम्बी भी भारत के कुछ प्रमुख खिलाड़ी है खैर सबकी नजरे 12 वर्षीय प्रग्गानंधा और 13 वर्षीय निहाल सरीन पर है जो सारी दुनिया के लिए इस समय आकर्षण का केंद्र है ।  पहले तीन राउंड में नन्हें प्रग्गानंधा और निहाल नें शानदार शुरुआत की है तो फेनिल शाह इंटरनेशनल मास्टर बनने के करीब जा पहुंचे है वही वैभव सूरी नें अपने पहले तीन मैच जीत कर सयुंक्त बढ़त हासिल कर ली है !

ताल मेमोरियल - आनंद , रैपिड तो कर्याकिन ब्लिट्ज़ चैम्पियन

07/03/2018 -

उनका प्रदर्शन लगातार दुनिया भर के शतरंज प्रशंसको को चौंका रहा है ,ठीक तभी जब विशेषज्ञ संभावना व्यक्त करने लगते है की अब शायद उनमें वह बात नहीं रही तो वह कभी दुनिया भर के युवाओं यहाँ तक के विश्व चैम्पियन की मौजूदगी में विश्व रैपिड चैम्पियन बनकर तो कभी ताल मेमोरियल जैसे कठिन ग्रांड मास्टर टूर्नामेंट में 1 अंक के अंतर से खिताब हासिल कर यह साबित कर देते है की उम्र महज उनके लिए एक नंबर है और उनमें अभी भी काफी शतरंज बाकी है ।आप समझ ही गए होंगे की मैं बात कर रहा हूँ पाँच बार के क्लासिकल विश्व चैम्पियन विश्वानाथन आनंद की जिन्होने अपने शानदार प्रदर्शन से भारत का नाम एक बार फिर विश्व शतरंज के शीर्ष में कायम रखा है । मॉस्को में हुए पूर्व विश्व चैम्पियन मिखाइल ताल की याद में आयोजित स्पर्धा में आनंद नें रैपिड तो कर्याकिन नें ब्लिट्ज़ के खिताब अपने नाम किए ।  

"जयपुर कलर रन" जब शतरंज में मिले कई रंग !

04/03/2018 -

होली भारत के सबसे प्रमुख त्योहारों में से एक है पिछले कुछ वर्षो में हमारी इस सांस्कृतिक और सामाजिक मेलजोल का संदेश देने वाले इस उत्सव को बचाने के कई नवीन प्रयास आरंभ हुए है और जयपुर शहर में होने वाला कलर रन इसी में से एक प्रयास है । खैर जयपुर में होने वाले इस उत्सव में दो वर्षो से कुछ अलग हो रहा है जी हाँ जयपुर के  चैस पैरेन्ट्स एसोसिएशन राजस्थान एवं आॅल राजपूताना चैस एसोसिएशन द्वारा आयोजित "कलर रन फोर चैस " में राज्य के विभिन्न हिस्सो से शतरंज खिलाड़ी मिलकर दे रहे है एक अनोखा संदेश , रंगोत्सव का यह अवसर शतरंज के प्रचार प्रसार के माध्यम के साथ साथ शतरंज खिलाड़ियों को एक मंच में लाने का एक अनोखा प्रयास है । पढे जयपुर से पुष्पेन्द्र कुमार चौधरी का यह लेख 

ऐरोफ़्लोट ओपन - भारत के सेथुरमन बने उपविजेता !

28/02/2018 -

अंतिम और निर्णायक राउंड में भारतीय ग्रांड मास्टर सेथुरमन नें अनुभवी ग्रांड मास्टर मालदोव के विक्टर बोलोगन को पराजित करते हुए 6.5 अंक के साथ दुनिया के सबसे कठिन ओपन टूर्नामेंट कहे जाने वाले ऐरोफ़्लोट ओपन में दूसरा स्थान हासिल करते हुए देश के शतरंज प्रेमियों को गर्व करने का मौका दे दिया । अंतिम राउंड में शशिकिरण और अरविंद की हार , मुरली और विदित के ड्रॉ के बाद सबकी नजरे सेथुरमन पर टिकी थी और उन्होने शानदार चालों से हाथी के एंडगेम में  जीत दर्ज की ,बेलारूस के कोवलेव व्लादिस्लाव नें अर्मेनिया के सरगिससियन गेब्रियल से आसानी से ड्रॉ खेलते हुए आधे अंक की बढ़त के साथ 7 अंक बनाकर टूर्नामेंट जीत लिया .टूर्नामेंट मे मेजबान रूस के दिमित्री गोरदिवस्की 6. 5 अंक बनाकर टाईब्रेक में तीसरे स्थान पर रहे । अन्य भारतीय खिलाड़ियों में शशिकिरण 25वे ,अरविंद चितांबरम 26वे ,मुरली कार्तिकेयन 29वे और विदित गुजराति 35वे स्थान पर रहे । 

ऐरोफ़्लोट ओपन -सेथुरमन पर नजरे ,अंततः जीते विदित

28/02/2018 -

ऐरोफ़्लोट ओपन में आज का दिन अंतिम निर्णायक राउंड के ठीक पहले भारत के लिए अच्छी खबर लाया और सेथुरमन ,शशिकिरण ,अरविंद चितांबरम नें जीत दर्ज की , दो और बड़ी खबर थी पहली विदित गुजराती की जीत जो भले इस टूर्नामेंट में अब उतनी मायने नहीं रखती है पर उनका लय में लौटना अच्छी बात है की वह पुनः उसी लय में नजर आए जिसके वो हकदार तो है पर उनसे वैसी उम्मीद भी सभी को है । सेथुरमन अगर आज जीते तो वह शीर्ष 3 में जगह बना सकते है जो भारत के लिहाज से शानदार होगा आज उन्होने हमवतन मुरली कार्तिकेयन को पराजित किया । खैर आज के बड़े मैच से अलग सबकी नजरे थी बोर्ड 37 पर जहां खेल रहे थे भारत के प्रग्गानंधा और निहाल सरीन और उनके बीच मैच नें दुनिया भर का ध्यान खींचा ! खैर इन सबके बीच शीर्ष पर कोवालेव नें एक अंक की बढ़त बनाते हुए खिताब जीतने का दावा मजबूत कर लिया है । 

ऐरोफ़्लोट ओपन - शशिकिरण हारे,विदित का 7वां ड्रॉ

27/02/2018 -

ऐरोफ़्लोट ओपन 2018 अब अपने अंतिम पड़ाव के समीप पहुँच गया है और सातवे राउंड में भारत को तीसरे बोर्ड से झटका लगा जब शीर्ष भारतीय ग्रांड मास्टर कृष्णन शशिकिरण ईरान के इंटरनेशनल मास्टर और इस टूर्नामेंट में सनसनी बन कर उभरे तबातबाई अमीन से पराजित हो गए और इस जीत नें अमीन अब सयुंक्त पहले स्थान पर जा पहुंचे है । अन्य भारतीय खिलाड़ियों में सेथुरमन नें पूर्व फीडे विश्व चैम्पियन अलेक्ज़ेंडर खलिफमन से ड्रॉ खेला तो मुरली कार्तिकेयन नें दिमित्री गोरदिवस्की से मैच बराबर पर खेला । युवाओं में अरविंद चितांबरम और आर्यन चोपड़ा नें अपने अपने मैच जीते ! तो आश्चर्यजनक तौर पर विदित गुजराती नें आज अपना लगातार सातवाँ ड्रॉ खेला । देखना यह होगा की क्या वह अब अंतिम बचे तो मैच में जीत दर्ज करेंगे । ईशा करवाड़े को लगातार तीसरी हार का सामना करना पड़ा , खैर अगले राउंड में मुक़ाबला है दो भविष्य के सितारों का जी हाँ प्रग्गानंधा और निहाल के बीच आठवे राउंड में होगा रोचक मैच । 

एरोफ़्लोट ओपन - सेथुरमन और शशिकिरण जीते

26/02/2018 -

ऐरोफ़्लोट ओपन का छठा राउंड भारत के लिहाज से थोड़ा बेहतर साबित हुआ और अपना 25वां जन्मदिन मना रहे सेथुरमन सहित ,शशिकिरण की जीत नें भारत के लिए अच्छी खबर दी । सेथुरमन नें हमवतन युवा ग्रांड मास्टर आर्यन चोपड़ा को पराजित किया तो शशि किरण नें वर्तमान विश्व जूनियर चैम्पियन नॉर्वे के आर्यन तारी को पराजित किया , भारतीय खिलाड़ियों में सबसे आगे चल रहे मुरली कार्तिकेयन नें आज कोरबोव अंटोन से ड्रॉ खेला तो ईशा करवाड़े को आज लगातार दूसरी हार का सामना करना पड़ा , बात करे भारत की सबसे बड़ी उम्मीद विदित गुजराती की आज उन्होने उज़्बेक प्रतिभा नोदिरबेक से ड्रॉ खेला और यह उनका लगातार छठवा ड्रॉ था  और अब ऐसे में जब सिर्फ तीन राउंड बाकी है देखना होगा की क्या विदित अपने अंतिम तीन मैच जीत कर वापसी करेंगे , खैर निहाल सरीन और फेनिल शाह क्रमशः जीएम और आईएम नार्म की ओर तेजी से बढ़ते नजर आ रहे है ..

ऐरोफ़्लोट ओपन - आधा पड़ाव पार, मुरली सबसे बेहतर

25/02/2018 -

ऐरोफ़्लोट के पहले पड़ाव के बाद रूस के अर्टेमिव व्लादिस्लाव 4.5 अंको के साथ एकल बढ़त पर चल रहे है । भारतीय खिलाड़ियों में मुरली कार्तिकेयन और ईशा करवाड़े के प्रदर्शन से थोड़ा राहत जरूर है पर विदित गुजराती , कृष्णन शशि किरण और सेथुरमन से और बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है । आर्यन चोपड़ा , निहाल सरीन और प्रग्गानंधा भी पूरा ज़ोर लगा रहे है । अब जबकि सिर्फ चार राउंड बाकी है ऐसे में देखना होगा की कौन सा भारतीय खिलाड़ी बेहतर खेल दिखाता है । वर्ग में 37 खिलाड़ियों के दल में भी मित्रबा गुहा ,अभिजीत कुंटे ,नुबेर शाह और फेनिल शाह जैसे खिलाड़ी अच्छा करते नजर आ रहे है । खैर आज भारतीय ग्रांड मास्टर सेथुरमन अपना जन्मदिन मना रहे है ढेरों शुभकामनाए !!

ऐरोफ़्लोट ओपन - जमा देने वाली ठंड और हौसलों की जंग

21/02/2018 -

जमा देने वाली ठंड के बीच  मॉस्को ,रूस , दुनिया के सबसे कड़े और मजबूत ग्रांड मास्टर ओपन माने जाने वाले ऐरोफ़्लोट ओपन 2018 का आगाज हो गया और इसके साथ ही विश्व भर के शतरंज खिलाड़ियों की नजरे इसी मैच पर जाकर लग गयी है । शून्य से नीचे 15 डिग्री के तापमान में तीन ग्रुप में 300 खिलाड़ी 24 देशो से भाग लेने यहाँ पहुंचे है लेकिन जो सबसे बड़ी बात है वह इस प्रतियोगिता का स्तर जो की इसे सबसे कठिन मैच में बदलता है  । पहले राउंड मे ही खेल के कई निराले अंदाज देखने को मिले और कई उलटफेर सामने आए । दिग्गज खिलाड़ी जहां संतुलित खेलते नजर आए तो नवोदित खिलाड़ियों नें पहले ही राउंड से अपने आक्रामक अंदाज दिखा दिये है । भारतीय उम्मीद विदित और शशिकिरण नें पहले राउंड ड्रॉ खेले तो सेथुरमन और मुरली कार्तिकेयन नें जीत से शुरुआत की । नन्हें प्रग्गानंधा और निहाल नें दिग्गजों को बराबरी पर रोका तो रूस के बाद सबसे बड़ा भारतीय दल अपने खेल से सभी को प्रभावित करता नजर आया । 

नेशनल टीम :पीएसपीबी का क्लीन स्वीप :जीते दोहरे खिताब

15/02/2018 -

नेशनल टीम शतरंज चैंपियनशिप इस बार पूरी तरह से पेट्रोलियम स्पोर्ट्स प्रमोशन बोर्ड के नाम रही और उनकी दोनों पुरुष और महिला टीमों नें क्लीन स्वीप करते हुए आसानी से खिताब अपने नाम किए । पुरुष वर्ग में जहां 9 में से 9 तो महिला वर्ग में पीएसपीबी नें 7 में से 7 मुक़ाबले जीतकर एक शानदार जीत दर्ज की । दूसरी सबसे सफल टीम एयरपोर्ट अथॉरिटी रही जिन्होने पुरुष वर्ग में दूसरा तो महिला वर्ग में तीसरा स्थान हासिल किया और अपनी युवा टीम के बलबूते अच्छा प्रदर्शन किया । पूर्व विजेता रेल्वे के लिए सब कुछ अच्छा नहीं रहा और पुरुष वर्ग में रेल्वे बी तो तीसरे स्थान पर रही पर गत विजेता रेल्वे ए चौंथे स्थान पर रही और पदक से चूक गयी । इसी तरह एयर इंडिया की प्रतिष्ठा बचाते हुए महिला टीम दूसरे स्थान पर रही । खैर हमेशा से टीम चैंपियनशिप भारत के सभी प्रमुख खिलाड़ियों के लिए एक महत्वपूर्ण  मैच रहा है जहां सभी खिलाड़ी अपने उन विभागो के लिए खेलते है जहां वह कार्यरत है । 

विदित,सागर ,अनूप समेत 19 को शिव छत्रपती अवार्ड !

14/02/2018 -

महाराष्ट्र सरकार ने इस वर्ष महाराष्ट्र के 14 शतरंज खिलाड़ियों और 5 प्रशिक्षको के कार्य को सराहते हुए खेल के क्षेत्र का सबसे बड़ा अवार्ड शिव छत्रपती अवार्ड देने की घोषणा की है । भारतीय शतरंज इतिहास में यह पहला मौका है जब इतनी संख्या में शतरंज खिलाड़ियों को कोई सरकारी सम्मान हासिल हुआ है और इससे निश्चित तौर पर महाराष्ट्र के खिलाड़ियों के नवोदित खिलाड़ियों को अच्छा प्रदर्शन करने की प्रेरणा मिलेगी । ग्रांड मास्टरों में से विदित गुजराती ,अक्षय राज कोरे ,स्वप्निल धोपाड़े ,शार्दूल गागरे और अभिमन्यु पौराणिक ,इंटरनेशनल मास्टर में सागर शाह ,समीर काठमाले ,अभिषेक केलकर ,नुबेर शाह और शशिकांत कुतवाल ,महिला खिलाड़ियों में साक्षी चित्लांगे ,आकांक्षा हागवाने ,प्रणाली धारिया ,और रुचा पुजारी को यह प्रतिष्ठित सम्मान दिया जा रहा है । प्रशिक्षको में यह सम्मान  अनूप देशमुख ,शरद तिलक ,जयंत गोखले , जोसेफ डिसूजा और दिनेश चित्लांगे को दिया जा रहा है ।